हमारे कॉलम कार

कहे  तोसे सजना ये तोहरी सजनिया …

मेले में लखनऊ की वंदना मिश्रा ने कराया फोक, सूफी, बॉलीवुड और भोजपुरी गीत संगीत का संगम 
ग्वालियर। “ कहे तोसे सजना ये तोहरी सजनिया. “ … फिल्म मैंने प्यार किया का मशहूर गीत जब लखनऊ की टीवी कलाकार एवं लोकगीत गायिका सुश्री वंदना मिश्रा ने अवधि शैली में पेश किया तो उन्होंने मखमली आवाज का मधुर अहसास कराकर संगीत प्रेमियों को मंत्रमुग्ध कर दिया।
ग्वालियर व्यापार मेले के फेसिलिटेशन सेंटर में गुरुवार को आयोजित सांस्कृति संध्या में “ फोक सोंग “ की प्रस्तुति हुई। जहां गायिका वंदना मिश्रा ने अपनी एकल गायन की प्रस्तुति से फोक के साथ ही बॉलीवुड गानों का तड़का लगाया वहीं गजल की रुमानियत और सूफी रंगीनियत भी पैदा की। इसके अलावा उन्होंने भक्ति रस की सरधार बहाकर होली के रंगों से भी श्रोताओं को सराबोर किया।
उन्होंने “ जगदम्बा घर में दियना “ और “ हे, गंगा मैया तो हे “ लोकगीत से आध्यात्मिक अंदाज में कार्यक्रम का श्रीगणेश किया।ं
इसके बाद उन्होंने श्रोताओं की पसंद के अनुरूप एक से बढ़कर एक गीत, गजल, सूफी और लोकगीत प्रस्तुत किए।
तेरे रश्के कमर पर झूमे श्रोता 
वंदना मिश्रा ने लखनऊ की नजाकत भरे अंदाज के साथ ही बालीवुड की रंगत में “ पान खाएं सैंया हमारे “ … से अपनी गायकी का हुनर दिखाया। इसके बाद उन्होंने “ तुझे प्यार करते-करते मेरी उम्र बीत जाए “ गजल पेश कर सभागार को मोहब्बत की खुशबू से महका दिया।
उन्होंने विविध प्रांतों की मूल संस्कृति और सभ्यता के दर्शन कराते हुए अनेक गीत प्रस्तुत किए। “ कंकड़िया मार के जगाया… “ और फिल्म गदर के गाने “ उड़ जा काले कावां “ से श्रोताओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। एक बार फिर उन्होंने महफिल की रंगत बदलते हुए सूफियाना रंग में लोगों को रंगते हुए “ छाप तिलक सब छीनी तो से नैना मिलाइके “  और “ दमादम मस्त कलंदर “ गाकर अपनी गायकी का जादू चलाया।
उन्होंने कृष्ण भक्ति के रंग भी बिखेरे और होली के रंगों से सराबोर भी किया। “ मेरो बारो रे कन्हैया “  के बाद “ होरी खेले रघुबीरा “ गीत के साथ कार्यक्रम का समापन किया।
इन्होंने की संगत
ऑर्गन : राहुल तिवारी
तबला : पंकज कुमार
नाल : रवीश कुमार
पेड : विपिन वर्मा
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *