खबर खास सरकारी नौकरी

नौकरी जाने पर दो साल तक सरकार देगी पगार

♦ अच्छी खबर : प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों को अब नहीं झेलना होगा आर्थिक संकट
♦ सरकार हुई मेहरबान,योजना के तहत बेरोजगार हो चुके लोगों के खाते में आएगा धन
विजय पाण्डेय। प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करने वालों के लए यह खबर किसी खुशखबरी से कम नहीं होगी। खबर पढ़कर आपका चेहरा खिल जाएगा। प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करने वालों को किन्हीं कारणवश नौकरी जाने पर आर्थिक संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा। क्योंकि सरकार उन पर मेहरबान हो गई है। यदि नौकरी चली भी जाती है तो सरकार उन्हें दो साल तक घर बैठे रुपए देगी।


प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करने वालों के भविष्य की अनिश्चिता को देखते हुए केंद्र सरकार ने सार्थक पहल की है। इसके चलते अब आपको नौकरी चले जाने पर परेशानी नहीं उठानी पड़ेगी। यह सब संभव होगा ”अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना” के जरिए। इसके तहत कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) नौकरी के जाने पर बेरोजगार होने वाले लोगों के बैंक खाते में दो साल तक प्रतिमाह एक मुश्त रकम डालेगी। इस योजना का लाभ असंगठित क्षेत्र के वही कर्मचारी उठा सकेंगे, जो ईएसआईसी से बीमित होंगे। इसके अलावा दो वर्ष से अधिक की नौकरी कर चुके हों। नौकरी जाने पर इस योजना का लाभ एक ही बार मिलेगा।
ऐसे मिलेगा योजना का लाभ
यदि आप अपने भविष्य को आर्थिक रूप से सुरक्षित रखना चाहते हैं, तो आपको ईएसआईसी की ”अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना” के तहत अपना पंजीयन कराना होगा। इसके लिए ईएसआईसी की वेबसाइट पर जाकर इस योजना का फार्म डाउनलोड कर उसे पूर्ण रूप से भरकर संबंधित शाखा में जमा कराना होगा। फॉर्म के साथ 20 रुपए का नॉन-ज्यूडिशियल स्टांप पेपर पर नोटरी कराकर शपथ-पत्र देना होगा। फॉर्म डाउनलोड करने के लिए आप इस लिंक परhttps://www.esic.nic.in/attachments/circularfile/93e904d2e3084d65fdf7793e9098d125.pdf क्लिक कर सकते हैं।
इलाज के नियमों में भी किया बदलाव
योजना के तहत कर्मचारियों को लाभ देने के लिए ईएसआईसी ने सुपर स्पेशियलिटी उपचार के नियम में भी बदलाव कर इसे आसान बनाया है। पहले नियम के तहत दो साल की नौकरी का होना जरूरी था लेकिन अब महज छह महीने की अवधि कर दी गई है। योजना का लाभ लेने के लिए रकम के योगदान की शर्त भी अब 78 दिनों की कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *