पुलिस प्रशासन

नकली हाईकोर्ट जज बनकर कमिश्नर को ठगने का प्रयास

शस्त्र लायसेंस पास करने के संबंध मे मिलने और मोबाइल नंबर 9425108965 धारक द्वारा स्वंय को जस्टिस विवेक शर्मा बताते हुऐ आवेदक मनीष शर्मा के शस्त्र लायसेंस के प्रकरण को पास करने की सिफारिश करने के संबंध मे लेख किया गया था।
 

ग्वालियर । एक युवक ने नकली हाईकोर्ट जज बनकर कमिश्नर को फोन कर शस्त्र लायसेंस प्रकरण पास करने की बात कहीं। कमिश्नर को शक होने पर उन्होंने हाईकोर्ट से मामले की तस्दीक कराई। हकीकत सामने आने पर कमिश्नर ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिख सच्चाई से अवगत कराया। क्राइम ब्रांच ने तत्परता दिखाते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। a
पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने प्रेस को जानकारी को देते हुए बताया कि संभागीय आयुक्त (कमिश्नर ) एमबी ओझा द्वारा सात जनवरी को एक पत्र दिया गया था।
पत्र में आगंतुक मनीष शर्मा पुत्र रामस्वरूप शर्मा द्वारा स्वंय को हाईकोर्ट जज जबलपुर विवेक शर्मा द्वारा भेजा जाना बताया। उसने शस्त्र लायसेंस पास करने के संबंध मे मिलने और मोबाइल नंबर 9425108965 धारक द्वारा स्वंय को जस्टिस विवेक शर्मा बताते हुऐ आवेदक मनीष शर्मा के शस्त्र लायसेंस के प्रकरण को पास करने की सिफारिश करने के संबंध मे लेख किया गया था। उनके द्वारा बताया गया कि जब उनके द्वारा जबलपुर उच्च न्यायालय मे तस्दीक कराई गई तो ज्ञात हुआ कि जस्टिस विवेक शर्मा नामक कोई जज वहां पदस्थ नही है। पत्र में ठग पर कानूनी कार्यवही करने की बात कही गई थी।


पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पत्र को गंभीरता से लेते हुए क्राइम ब्रांच से तथ्यों की जांच कराई जाकर ठग को गिरफ्तार करने के निर्देष अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध पंकज पाण्डेय एवं उप पुलिस अधीक्षक अपराध रत्नेष सिंह तोमर को दिये।
क्राईम ब्रांच ने प्रकरण मे प्राप्त मोबाइल नंबर के आधार पर धारक का नाम पता ज्ञात कर मुखबिर की मदद से शनिवार को थाना प्रभारी दामोदर गुप्ता एवं सायबर नोडल निरीक्षक पंकज त्यागी द्वारा अपनी टीम के साथ आरोपी अजय शंकर त्यागी को नाका चन्द्रबदनी थाना झांसीरोड़ क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी से पूछताछ करने पर उनसे अपना नाम मनीष शर्मा उर्फअजय शंकर त्यागी पुत्र रामस्वरूप शर्मा निवासी 290, महादजी नगर, चिरवाई नाका थाना कम्पू जिला ग्वालियर बताया।
पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 419,170 भादवि एवं 66डी आईटी एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध किया जाकर विवेचनामे लिया जाकर ठगी मे शामिल अन्य लोगों के संबंध मे पूछताछ की जारही है।
इनकी रही सराहनीय भूमिका
ठग को गिरफ्तार करने मे थाना प्रभारी दामोदर गुप्ता, सायबर नोडल निरीक्षक पंकज त्यागी, उप निरीक्षक शैलेन्द्र सिंह गुर्जर, धर्मेन्द्र शर्मा, हरेन्द्र सिंह राजपूत, दिनेष तोमर, गौरव आर्य, विकास तोमर, चन्द्रवीर गुर्जर, रामबीर, योगेन्द्र तोमर, शिवशंकर, नरवीर, विवेक पाठक, अभिषेक तिवारी, धीरेन्द्र राजावत की सराहनीय भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *