ताजा मुद्दा

बागी विधायकों को मनाने बेंगलुरु पहुंचे दिग्विजय होटल के बाहर धरने पर बैठे, पुलिस ने किया गिरफ्तार

  • बेंगलुरु में होटल के बाहर धरने पर बैठे दिग्विजय सिंह को ऐहतियातन हिरासत में लिया गया
  • मध्य प्रदेश: स्पीकर ने गवर्नर को लिखा पत्र, कहा- लापता विधायकों को लेकर चिंतित हूं 
  • स्पीकर को गवर्नर की जवाबी चिट्ठी, टंडन ने प्रजापति को कहा- लगता है चिट्ठी गलती से मुझे भेज दी
  • विधायकों से मिलने की अनुमति न मिलने से नाराज दिग्विजय सिंह होटल के बाहर धरने पर बैठ गए।
  • कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह बागी विधायकों को मनाने के लिए बेंगलुरु पहुंचे हैं। उनके साथ कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार भी हैं।
  • मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट को लेकर आज सुबह 10.30 बजे सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी।

भोपाल/बेंगलुरु. मध्य प्रदेश में सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। राज्यपाल की ओर से दो बार आदेश मिलने के बाद भी फ्लोर टेस्ट से इनकार करने वाली कांग्रेस अब बागियों को मनाने की कोशिश में है। कांग्रेस से बागी हुए सिंधिया गुट के 22 विधायक 10 दिन से बेंगलुरु में हैं। बुधवार अल सुबह पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह कांग्रेस नेताओं के साथ बेंगलुरु पहुंच गए। लेकिन कर्नाटक पुलिस ने उन्हें रमादा होटल के बाहर ही रोक दिया। इसके बाद सभी कांग्रेस नेता सड़क पर धरने पर बैठ गए। बाद में पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया।

मेरे पास ना बम है, ना पिस्तौल, फिर क्यों रोका: दिग्विजय
दिग्विजय सिंह ने कहा, ”पुलिस हमें विधायकों से मिलने नहीं दे रही है। मैं मध्य प्रदेश का राज्यसभा उम्मीदवार हूं। 26 तारीख को राज्यसभा चुनाव के लिए विधानसभा में वोटिंग होनी है। हमारे विधायकों को यहां होटल में बंधक बनाकर रखा गया है। वे हमसे बात करना चाहते हैं, लेकिन उनके मोबाइल छीन लिए गए। विधायकों की जान को खतरा है। मेरे पास हाथ में ना बम है, ना पिस्तौल है और ना हथियार है। फिर भी पुलिस मुझे क्यों रोक रही है।” दिग्विजय के अलावा कांतिलाल भूरिया, विधायक आरिफ मसूद और कुणाल चौधरी भी बेंगलुरु गए हैं। यहां पहुंचने पर कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष डीके शिवकुमार उन्हें लेने पहुंचे थे।

जीतू पटवारी ने भी बागियों से मिलने की कोशिश की थी
मुख्यमंत्री कमलनाथ भी राज्यपाल को पत्र लिखकर बेंगलुरु से 22 विधायकों को वापस लाने की मांग कर चुके हैं। कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा ने उनके विधायकों कोे बंधक बना रखा है। उनके लौटने तक फ्लोर टेस्ट नहीं कराया जा सकता है। इससे पहले जीतू पटवारी समेत कमलनाथ सरकार के 4 मंत्री बागी विधायकों से मिलने की कोशिश कर चुके हैं। तब पुलिस ने पटवारी समेत अन्य मंत्रियों को रिसॉर्ट के बाहर ही रोक दिया था। इस पर उनकी पुलिस से झड़प भी हुई थी, जिसके बाद सभी मंत्रियों को हिरासत में ले लिया गया था।


मध्य प्रदेश के राजनीतिक घटनाक्रम से जुडी ये ख़ास खबर भी पढिये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *