हमारे कॉलम कार

मोदी सरकार की देन है देश में कोरोना संकट, अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा होगी संक्रमितों की संख्या

  • भले ही जमातियों और मजदूरों को संक्रमण फ़ैलाने का दोषी प्रचारित किया जाए, वास्तविक दोषी मोदी सरकार है|  जिसने इस खतरे की आहट को गंभीरता से नहीं लिया| मुझे आशंका है कि जून के अंत तक भारत केवल अमेरिका को छोड़कर सभी देशों को संक्रमण के मामले में पीछे छोड़ देगा।  किन्तु इससे डरने की आवश्यकता नहीं है। इस बीमारी से तीन चार प्रतिशत मरीजों को ही गंभीर खतरा पैदा होता है। 

मैंने 4 मई को लिखा था कि अंधभक मोदी जी को इस बात का श्रेय भले ही देते रहें कि उनके द्वारा समय पर लॉक डॉउन घोषित करने से देश बच गया, कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या इसी कारण कम है किन्तु टैस्टिंग बढ़ने दीजिए पॉजिटिव लोगों की संख्या 25 मई तक 1 लाख पार कर जाएगी ।

** अखिलेंदु अरजरिया
लेखक : सवतंत्र टिप्पणीकार हैं और रिटायर्ड IAS अफसर हैं |

सरकारी प्रयास इतने तेज और कारगर हुए कि मेरी भविष्यवाणी को गलत साबित करते हुए 25 मई से 7 दिन पूर्व ही आज 18 मई को ही पॉजिटिव लोगों की संख्या 1 लाख पार कर गई।अब संक्रमण गांवों की ओर भी बढ़ चुका है जिसके कारण ज्यों ज्यों टैस्टिंग अधिक होती जाएगी ,संख्या बढ़ती जाएगी । लॉक डॉउन व्यर्थ गया , इससे देश वासियों को विशेष कर प्रवासी मजदूरों को असहनीय पीड़ा भोगनी पड़ी । मैं पहले ही लिख चुका हूं कि भले ही जमातियों और मजदूरों को संक्रमण फ़ैलाने का दोषी प्रचारित किया जाए , वास्तविक दोषी मोदी सरकार है जिसने इस खतरे की आहट को गंभीरता से नहीं लिया और जब विदेश से आने वालों को एयर पोर्ट्स पर ही क्वारांटिन करना था , तब नहीं किया । हड़बड़ी में लॉक डॉउन घोषित कर स्थिति और बिगाड़ दी ।
मुझे आशंका है कि जून के अंत तक भारत केवल अमेरिका को छोड़कर सभी देशों को संक्रमण के मामले में पीछे छोड़ देगा । किन्तु इससे डरने की आवश्यकता नहीं है । इस बीमारी से तीन चार प्रतिशत मरीजों को ही गंभीर खतरा पैदा होता है । अनुशासित होकर स्वयं सावधानी बरतें । देश को फिर से पटरी पर लाएं । जयहिंद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *