खबर खास

उपलब्धि : लॉकडाउन में नहीं थमी कृषि की विकास दर, 24 मार्च से किसानों को18 हजार करोड़ ट्रांसफर : तोमर

  • मनरेगा के 12 करोड़ जॉब कार्ड धारक हैं, जिन्हें काम देना भारत सरकार की प्राथमिकता है। मनरेगा के के हितों का ध्यान रखते हुए सरकार ने आगामी मई और जून महीने के लिए 20 हजार करोड़ रूपए की मंजूरी दी है। जबकि बकाया राशि का शत-प्रतिशत भुगतान अप्रैल के पहले सप्ताह में ही कर दिया गया है : तोमर 

नई दिल्ली,एजेंसी। कोविड-19 की महामारी के कारण लागू लॉक डाउन के बावजूद कृषि क्षेत्र की विकास दर की रफ्तार थमने नहीं पाई है। केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा वर्ष 2019-20 चालू फसल वर्ष मे विकास दर 3.71 रहेगी। हालांकि इसके पहले नीति आयोग ने इस फसल वर्ष के लिए जो आकलन किया था, उसमें कृषि और संबद्ध क्षेत्र की विकास की विकास की दर 3 फीसद आंकी गई थी।
मनरेगा के लिए 20 हजार करोड़ रुपए की मंजूरी
प्रेस वार्ता के दौरान ग्रामीण विकास मंत्रालय के संबंध में पूछे सवाल के जवाब में तोमर ने कहा कि मनरेगा के 12 करोड़ जॉब कार्ड धारक हैं, जिन्हें काम देना भारत सरकार की प्राथमिकता है। मनरेगा के के हितों का ध्यान रखते हुए सरकार ने आगामी मई और जून महीने के लिए 20 हजार करोड़ रूपए की मंजूरी दी है। जबकि बकाया राशि का शत-प्रतिशत भुगतान अप्रैल के पहले सप्ताह में ही कर दिया गया है। एक करोड़ 70 लाख से अधिक मानव दिवस सृजित हो चुके हैं। मनरेगा में निर्धारित 264 कार्यों में से 162 कार्य खेतीबाड़ी से संबंधित हैं जिन पर तकरीबन 66 फीसद राशि खर्च हो चुकी है।
PM किसान सम्मान निधि योजना में किसानों को 71 हजार करोड़ ट्रांसफर
नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार समय-समय पर इस बात की कोशिश करती रही है कि सरकार के खजाने का पैसा किसान और कृषि दोनों के लिए उपलब्ध रहे, इसलिए पिछले दिनों प्रधानमंत्री ने PM किसान सम्मान निधि योजना का आरंभ किया। आरंभ से लेकर आज की तारीख तक देखें तो इस योजना के अंतर्गत किसानों के खाते में 71,000 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए गए हैं। किसानों की संख्या 9.39 करोड़ है। प्रधानमंत्री किसान निधि (PM KISAN) ने इस COVID19 के दौरान भी किसानों को काफी लाभान्वित किया है। कृषि विभाग ने 24 मार्च से अब तक किसानों को 17986 करोड़ ट्रांसफर किया है।
eNAM से देश की 585 मंडियां जोड़ी गईं
इस मौके पर नरेंद्र तोमर ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक ट्रांजेक्शन के लिए eNAM (नेशनल एग्रीकेल्चर मार्केट) प्लेटफॉर्म बनाया गया था। इस पर 585 मंडियां जोड़ी गईं, इनमें एक लाख करोड़ से अधिक का व्यापार हुआ। एक मई तक हम इनकी संख्या 100 बढ़ा रहे हैं। मई महीन में हमारी कोशिश है कि eNAM पर 1000 मंडियां जुड़ जाएं। 117 लाख टन गेंहू, 18 लाख टन धान, 5 लाख टन दलहन की खरीद हो चुकी है।


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *